चीन छोड़िए, यूपी में आपका स्वागत है; विदेशी कंपनियों के लिए योगी सरकार ने खोली हेल्पडेस्क

0
129
उत्तर प्रदेश ने दक्षिण कोरियाई, जापानी और अमरीकी कम्पनियों के लिए बनाई हेल्पडेस्क
उत्तर प्रदेश ने दक्षिण कोरियाई, जापानी और अमरीकी कम्पनियों के लिए बनाई हेल्पडेस्क

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुताबिक अब यूपी सरकार आपदा में अवसर देख रही है। कोरोना की वजह से चीन से जो कंपनियां निकलने वाली हैं उन्हें यूपी में निवेश के लिए अब तेजी से कोशिश शुरु कर दी गयी है। उत्तर प्रदेश ने दक्षिण कोरिया, जापान और अमरीका की कंपनियों के लिए विशेष हेल्प डेस्क भी बना दी है। इसके अलावा यूपी के मंत्री इन कंपनियों के लोगों से बात भी कर रहे हैं।

क्या है पूरा प्लान

कोविड 19 के चलते चीन से बहुत सी विदेशी कंपनियां एक्जिट प्लान पर काम कर रही हैं। जापान ने तो बाकयदा चीन से बाहर निकलने वाली अपने देश कि कंपनियों के लिए आर्थिक पैकेज की घोषणा की है। यूपी इसी मौके को भुनाना चाहता है। यूपी के आईआईडीसी,अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त, आलोक टण्डन के मुताबिक कोरोना महामारी के चलते इन देशों की कंपनिया चीन से निकलना चाह रही हैं। सरकार का मानना है कि ये हेल्प डेस्क अमेरिका, दक्षिण कोरिया और जापान से निवेश को आकर्षित करने और निवेशकों को सुविधा देकर यूपी ला सकती हैं।

इन सेक्टर्स पर है नज़र

यूपी सरकार चीन से निकलने वाली हर कंपनी पर डोरे ड़ाल रही है। लेकिन मुख्य रुप से सरकार की नज़र एमएसएमई, खाद्य-प्रसंस्करण, ऑटोमोबाइल, आईटी और इलेक्ट्रॉनिक्स, ऑटो-कंपोनेंट्स, डिफेंस सेक्टर और बड़े इंफ्रास्ट्रक्चर प्रॉजेक्ट्स जैसे सेक्टर्स पर है। सरकार का मानना है कि इन देशों की कंपनियों के लिए अपार संभावनाएं हैं।

हर देश की कंपनियों के लिए अलग मेल आईडी

यूपी सरकार के मंत्री कई विदेशी कंपनियों के अहम लोगों से बात कर रहे हैं। इसके साथ ही अब दक्षिण कोरिया, जापान और अमेरिका के निवेशकों के लिए अलग अलग डेडीकेटेड ईमेल आई डी बना दी गयी है। इसमें दक्षिण कोरियाई कंपनियों के लिए southkoreahelpdesk@udyogbandhu.com, जापानी कंपनियों के लिए japanhelpdesk@udyogbandhu.com और अमरीकी कंपनियों के लिए ushelpdesk@udyogbandhu.com बनाई गयी है। इन मेल्स आने वाले हर महत्वपूर्ण कम्यूनिकेशन के फॉलो-अप के लिए बाकयदा अधिकारी नॉमिनेट किए जाएंगे।

अमरीकी कंपनियों पर है पैनी निगाह

अमरीका और चीन में चल रहे ट्रेड वॉर और कोरोना संकट में बढ़ी तल्खियों की वजह से यूपी सरकार अमरीकी कंपनियों पर ज्यादा ध्यान दे रही है। यही वजह है कि इस व्यवस्था में लगे दो नॉलेज पार्टनर में एक को अमरीकी हेल्पडेस्क की पूरी जिम्मेदारी है जबकि एक नॉलेज पार्टनर को दक्षिण कोरिया और जापान दोनों का काम देखना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here