1 अगस्त को होगी बकरीद; कोरोना के बीच सपा सांसद ने कहा सामूहिक नमाज से भाग जाएगी बीमारी

0
372
1 अगस्त को होगी बकरीद; कोरोना के बीच सपा सांसद ने कहा सामूहिक नमाज से भाग जाएगी बीमारी
1 अगस्त को होगी बकरीद; कोरोना के बीच सपा सांसद ने कहा सामूहिक नमाज से भाग जाएगी बीमारी

इस साल हर त्यौहार की तरह ही कोरोना ने ईद उल अज़हा यानी बकरीद पर भी ग्रहण लगा दिया है। मरकज़ी चांद कमेटी ने मंगलवार की शाम एलान कर दिया कि इद उल अज़हा का त्योहार 1 अगस्त को मनाया जाएगा। कोरोना को लेकर देश और प्रदेश के विभिन्न इलाके लॉकडाउन की बंदिशों में हैं इन हालात में बकरीद पर भी इसका साया पडेगा। इस बीच सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने बकरीद की नमाज परंपरागज रुप से कराने की अपील की है।

सपा सांसद ने की मांग, अजीब तर्क दिया

समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मांग की है कि वो बकरीद के मद्देनजर सामूहिक नमाज की इजाज़त दें। उन्होंने भरोसा दिलाया है कि अगर इजाजत मिलती है तो सोशल डिस्टेंसिंग समेत हर गाइडलाइन का पालन किया जाएगा। सामूहिक नमाज से कोरोना के खात्मे की बात करते हुए उन्होंने कहा कि सामूहिक नमाज में बहुत शक्ति होती है और इससे कोरोना के खात्मे में भी मदद मिलेगी।

देवबंद के मौलानाओं ने मिलाया सुर में सुर

सपा सासंद को अब देवबंद के मौलानाओं का साथ भी मिल गया है। देवबंद के मौलानाओं ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चिट्ठी लिखी है। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ से अपील की है कि वो बकरीद को देखते हुए दुकानों को खोलने की इजाजत दें। त्यौहार में कुर्बानी की इजाज़त दी जाय

उन्होंने भरोसा दिलाया है कि अगर इजाजत मिलती है तो सोशल डिस्टेंसिंग समेत हर गाइडलाइन का पालन किया जाएगा।

बाकी धर्मगुरुओं ने की सादगी से मनाने की अपील-

वहीं जमात ए इस्लामी हिंद की  तरफ से मुस्लिम समुदाय के लोगों से यह भी कहा गया है कि अगर कोरोना के चलते कुर्बानी करने में दिक्कत हो तो उसका पैसा गरीबों में बांट दें। कोरोना के संकटकाल में मुस्लिम धर्मगुरुओं ने भी लोगों से बकरीद में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने और बाज़ारों में भीड़ ना बढ़ाने की अपील की है। उनके मुताबिक जो लोग केंटन्मेंट ज़ोन में रहते हैं वो नियमों का खास ख्याल रखें

आनलाइन हो रही है बकरों की खरीद फरोख्त-

कोरोना के कारण बकरों की खरीद फरोख्त के लिए लगने वाले बाज़ार भी इक्का दुक्का ही खुले हैं। कई जगहों पर लोग वॉट्सएप के ज़रिए और आनलाइन बकरे बेच और खरीद रहे हैं। पर लोगों का मानना है कि कुर्बानी के लिए बकरा खुद देख परख कर लेना पड़ता है ऐसे में यह तरीका ज्यादा कारगर नहीं है।

महाराष्ट्र में भी  जारी की गई गाइडलाइन्स-

आने वाले दिनों ईद उल अज़हा के मद्देनज़र देश के निभिन्न प्रदेशों ने गाइडलाइन्स भी जारी की हैं।महाराष्ट्र सरकारी की तरफ से मुलिम समुदाय से अपील की गई है कि इस बार वे ईद उल अज़हा को बहुत सादगी और सिर्फ सांकेतिक रूप से मनाएं। महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे के मुताबिक जिस तरह कोरोना महामारी के दौरान पड़ने वाले सभी त्योहार घर में रहकर सादगी से मनाए गए हैं वैसे ही लोग ईद उल अज़हा में भी लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए ही त्योहार मनाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here