राममंदिर: 5 अगस्त को पीएम मोदी के पास भूमि पूजन के लिए हैं सिर्फ 32 सेकेंड!

0
390
राममंदिर: 5 अगस्त को पीएम मोदी के पास भूमि पूजन के लिए हैं सिर्फ 32 सेकेंड!
राममंदिर: 5 अगस्त को पीएम मोदी के पास भूमि पूजन के लिए हैं सिर्फ 32 सेकेंड!

अयोध्या में श्री रामजन्मभूमि पर बनने वाले मंदिर के भूमि पूजन के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आ रहे हैं। उनका कार्यक्रम 5 अगस्त को तय है। लेकिन राममंदिर के भूमि पूजन का काम तीन अगस्त से ही शुरु हो जाएगा। वहीं पंडितों की मानें तो प्रधानमंत्री को इस भूमि पूजन के सिर्फ 32 सेकेंड का ही समय मिलेगा। यानी उन्हें नींव की ईंट का पहला चांदी का पत्थर रखने और पूजा करने के लिए सिर्फ 32 सेकेंड का ही समय मिलने वाला है।

क्यों मिल रहे हैं सिर्फ 32 सेकेंड

भगवान श्रीराम का जन्म अभिजीत मुहूर्त में हुआ था। इसी कारण मंदिर की नींव पूजन का मूहूर्त भी अभिजीत मुहूर्त में रखा गय है। पांच अगस्त को दोपहर 12 बजकर 15 मिनट 15 सेकंड के ठीक बाद के 32 सेकेंड अहम होंगे क्योंकि ज्योतिष शास्त्र  के मुताबिक इन्हीं 32 सेकेंड में ही अभिजीतत मुहूर्त है। श्रीरामजन्म भूमि मंदिर के नींव पूजन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इसी लिए सिर्फ 32 सेकंड का समय दिया जाएगा। इन्हीं 32 सेकेंड के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भीतर भव्य और दिव्य श्रीराम मंदिर की पहली ईंट रखेंगे। यह ईंट करीब 40 किलोग्राम चांदी की होगी। ज्योतिष शास्त्र में उत्तर और दक्षिण भारत की मान्यताओं में कई बार फर्क देखने को मिलता है पर ये अभिजीत मुहूर्त उत्तर-दक्षिण मान्यताओं दोनों के हिसाब से सबसे अच्छा माना जा रहा है।

भूमि पूजन अऩुष्ठान तीन अगस्त से शुरु होंगे

अयोध्या में बनने वाले रामलला के मंदिर की भूमि पूजन का अनुष्ठान तीन अगस्त से ही शुरू हो जाएगा। ये अनुष्ठान को काशी के विद्वान पंडितों की देखरेख में होगा। काशी के विद्वानों के साथ ही इस अनुष्ठान में दक्षिण भारत के पंडित बी शामिल होंगे। देश के अलग-अलग राज्यों से आए आचार्य 3 अगस्त से नींव पूजन शुरू करेंगे। शुरुआत महा-गणेश पूजन से होगी। तीन अगस्त को महा-गणेश पूजन के साथ पंचांग पूजन किया जाएगा। इसके बाद 4 अगस्त को सूर्य सहित नवग्रह की पूजा होगी। 5 अगस्त को वरुण, इंद्र आदि देवताओं के साथ पूजा होगी। पांच अगस्त को नींव पहले से खोदी गई होगी जिसमें पीएम मोदी नीवं की पहली चांदी की ईंट रखेंगे।

किसने निकाला है मुहूर्त

5 अगस्त को उत्तर भारत में हिंदी महीना भाद्रपद होगा वहीं दक्षिण भारत में तब तक सावन का महीना ही चल रहा होगा। इन दोनों को देखते हए मुहूर्त निकाला गया है। ये मुहूर्त दोपहर सवा 12 बजे के आस पास है। इस अभिजीत मुहर्त को काशी के प्रकांड विद्वान गणेश्वर शास्त्री द्रविड़ ने निकाला है। 500 साल के विवाद के बाद बन रहे इस मंदिर का भूमि पूजन मुहूर्त बहुत महत्वपूर्ण माना जा रहा है । राम की जन्मभूमि पर बन रहे इस रामलला के मंदिर की नींव पूजन का काम ठीक मुहूर्त में हो इसके लिए काशी विद्वत परिषद के मंत्री प्रो. राम नारायण द्विवेदी के साथ तीन आचार्य इस पर निगाह रखने वाले हैं।

चांदी की ईंट क्यों

श्रीराम की जन्मभूमि पर बनने वाले इस मंदिर का भूमि पूजन रामानंदी परंपरा से किया जाएगा। मुहुर्त के मुताबिक सिर्फ 32 सेकेंड में ही पीएम मोदी को पहले से ही तैयार नींव में 40 किलो की चांदी की ईंट को स्पर्श कर रखना और पूजा करनी है। पीएम मोदी जो चांदी की ईंट रख रहे हैं उसका भी ज्योतिष के हिसाब से खास महत्व है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चांदी की ईंट रखने से राहु और केतु समेत अन्य दोष मिट जाते हैं।

चुनिंदा लोग ही आमंत्रित

पहले राममंदिर के भूमि पूजन का आयोजन बेहद दिव्य किया जाना था। इसमें देश विदेश से बहुत बड़े गणमान्य अतिथियों को बुलाया जाना था पर कोरोना के चलते इसे सीमित कर दिया गया है। श्रीरामजन्म भूमि मंदिर के नींव पूजन में अब कुछ ही चुनिंदा लोगों को आमंत्रित किया जा रहा है। इनमें सभी राज्यों के मुख्यमंत्री समेत पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, पूर्व मानव संसाधन मंत्री डॉ. मुरली मनोहर जोशी, विनय कटियार, उमा भारती भी शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here