वाराणसी को चमकाने का प्लान तैयार, 12 हजार करोड़ होगा खर्च

0
वाराणसी को चमकाने का प्लान तैयार, 12 हजार करोड़ होगा खर्च
वाराणसी को चमकाने का प्लान तैयार, 12 हजार करोड़ होगा खर्च

वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी को चमकाने का प्लान अब बन चुका है। इस प्लान में सबसे पहले वाराणसी की सबसे बड़ी समस्या को टारगेट करने का प्लान बना है। इस योजना के तहत बनारस को जाममुक्त किया जाना है। वाराणसी के लोगों की माने तो जाम उनके लिए सबसे बड़ी समस्या है। इस समस्या से अब 12 हजार करोड़ रुपये खर्च कर बनारसी लोगों को राहत दी जाएगी।

क्या है प्लान

रेल इंडिया टेक्निकल और इकॉनमिक सर्विसेज (राइट्स) द्वारा तैयार इस प्लान में सबसे पहले पब्लिक ट्रांसपोर्ट प्लेटफार्म परियोजना पर करीब 12 हजार करोड़ खर्च आएगा। बनारस को चमकाने का मास्टर प्लान प्रधानमंत्री कार्यालय की देखरेख में बना है। इस प्लान में शहर को जाममुक्त करने लिए राइट्स के प्लान में बाबतपुर रोड स्थित भेल से लंका तक 13 किलोमीटर तक लाइट मेट्रो चलाने का प्रस्ताव है। वाराणसी विकास प्राधिकरण के जरिए बने इस प्लान में मेट्रो के 13 स्टेशन बनाए जाएंगे। इसके साथ ही शहर को जाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए कई योजनाओँ पर एक साथ काम किया जाएगा। इन योजनाओं में फ्लाइओवर, रोप-वे, गंगा में फेरी सर्विस, डेडिकेटेड पाथ-वे और ई-रिक्शा कारिडोर की फीजिबिलटी रिपोर्ट मांगी गयी है। इस रिपोर्ट के मिलते ही इस प्लान का खाका पूरा कर इसे अमली जामा पहनाने की कार्यवाही शुरु की जाएगी।

बनारसी रोप वे

पुराने बनारस में जाम की समस्या बहुत बड़ी है। इसके साथ ही वहां पर गलियों का जाल है। ऐसे में जाम से निजात दिलाने के लिए रोप वे का सहारा लिया गया है। पुराने शहर को जोड़ने के लिए 16 किलोमीटर की रोप वे की जगहों को चिंहित कर लिया गया है।

वाटर वे से बनेगी बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश की नदियों में वाटरवे के संचालन को लेकर काफी संजीदा है। उन्होंने पूरे देश में वाटरवे को विकसित कर जाम कम करने से लेकर पर्यावरण बचाने की बात कई बार अपने भाषणों में की है। बनारस से हल्दिया तक गंगा नदी में वाटर-वे का संचालन हो रहा है। ऐसे में बनारस को जाम से मुक्ति दिलाने के लिए रोपवे, मेट्रो के साथ ही वाटरवे का सहारा भी लिया जा रहा है।  खिड़किया घाट से अस्सी तक वॉटर वेज के तहत फेरी सर्विस शुरू करने की योजना भी इस महत्वाकांक्षी प्लान का हिस्सा है।

यह भी पढ़ें:

राममंदिर के भूमि पूजन में मोदी का कार्यक्रम होगा भव्य; जानें यहाँ

जालौन के इस थाने में कुछ हुआ ऐसा कि पुलिस वालों के होश उड़ गए

सड़कें भी सुधरेंगी

मोदी के बनारसी होते ही वहां की सड़कों के हालात सुधरने लगे थे। बनारस के बाबतपुर एयरपोर्ट से बनने वाली रिंग रोड ने बनारस आने वालों को राहत दी है। बनारस में कई फ्लाईओवर भी बने हैं और लोगों को कुछ राहत मिली है। बनारस को जाम से मुक्ति देने के इन नये प्लान में भी शहर की सड़कें चौड़ी करके इलेक्ट्रिक बसों का संचालन किए जाने की योजना है। ग्रीन मोबिलिटी को लेकर पीएम मोदी द्वारा अपने संसदीय क्षेत्र से पूरे देश और दुनिया को मैसेज देने की दिशा में ये बड़ा कदम माना जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here